Home उत्तराखंड केदारघाटी में नियमों की धज्जियां उड़ा रहे हैं हेलीकॉप्टर

केदारघाटी में नियमों की धज्जियां उड़ा रहे हैं हेलीकॉप्टर

केदारघाटी में नियमों की धज्जियां उड़ा रहे हैं हेलीकॉप्टर

रुद्रप्रयाग में केदारनाथ धाम के लिए हेली सेवाओं की डिमांड दिन-प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। आपदा के बाद केदारनाथ धाम के लिए हेली सेवाओं की डिमांड बढ़ी है। मगर हेली सेवाओं करने वाली कंपनियां नियम कानूनों को नजरअंदाज कर हेली सेवाओं का संचालन कर रही हैं। केदारनाथ में हेली सेवाओं को संचालित करने वाली कंपनियों एवं एनजीओ और भारतीय वन्यजीव संस्थान के बीच में कुछ मानक तय किए गए हैं जिनको कंपनियां धड़ल्ले से अनदेखा कर रही हैं। इस संबंध में एनजीटी एवं भारतीय वन्यजीव संस्थान को रिपोर्ट भेजी जा रही है और इसी के साथ सभी हेली कंपनियों को पत्र भेजकर उनसे जवाब भी मांगा गया है। हेली कंपनियां नियमों को ताक पर रखकर हेलीकॉप्टर उड़ा रही हैं जिस वजह से पर्यावरण को भारी नुकसान हो रहा है और वन्यजीवों के जीवन पर भी बड़ा खतरा मंडरा रहा  – केदारघाटी में नियमों की धज्जियां उड़ा रहे हैं हेलीकॉप्टर, NGT ने मांगा जवाबकेदारनाथ धाम में हेली सेवा प्रदान करने वालीं हेली कंपनियां नियमों का धड़ल्ले से कर रही हैं उल्लंघन, पर्यावरण और जीव-जंतुओं के लिए खतरनाक ।

रुद्रप्रयाग में केदारनाथ धाम के लिए हेली सेवाओं की डिमांड दिन-प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। आपदा के बाद केदारनाथ धाम के लिए हेली सेवाओं की डिमांड बढ़ी है। मगर हेली सेवाओं करने वाली कंपनियां नियम कानूनों को नजरअंदाज कर हेली सेवाओं का संचालन कर रही हैं। केदारनाथ में हेली सेवाओं को संचालित करने वाली कंपनियों एवं एनजीटी और भारतीय वन्यजीव संस्थान के बीच में कुछ मानक तय किए गए हैं जिनको कंपनियां धड़ल्ले से अनदेखा कर रही हैं। इस संबंध में एनजीटी एवं भारतीय वन्यजीव संस्थान को रिपोर्ट भेजी जा रही है और इसी के साथ सभी हेली कंपनियों को पत्र भेजकर उनसे जवाब भी मांगा गया है। हेली कंपनियां नियमों को ताक पर रखकर हेलीकॉप्टर उड़ा रही हैं जिस वजह से पर्यावरण को भारी नुकसान हो रहा है और वन्यजीवों के जीवन पर भी बड़ा खतरा मंडरा रहा है।

सभी कंपनियों को हर दिन साउंड एवं ऊंचाई का रिकॉर्ड केदारनाथ वन्य जीव प्रभाग को भेजा जाना तय हुआ था मगर कंपनियां ऐसा नहीं कर रही हैं। ऐसे में प्रभाग ने हेली कंपनियों से जवाब मांगा है। हेली सेवाएं केदार घाटी के पर्यावरण को काफी हद तक नुकसान पहुंच रही हैं और वहां पर वन्यजीवों के जीवन पर भी बड़ा खतरा मंडरा रहा है। वन्य जीव संस्थान का कहना है कि कंपनियां मानकों एवं एनजीटी के नियमों का पालन नहीं कर रही हैं। हेलीकॉप्टर के हेलीपैड से उड़ान भरने एवं हेलीपैड पर लैंड करने के दौरान ध्वनि का अधिकतम एवं न्यूनतम मापन भी तय किया गया है मगर इन नियमों का खुलेआम उल्लंघन किया जा रहा है। प्रभाग के प्रभागीय वन अधिकारी अमित कंवर का कहना है कि केदारनाथ यात्रा में हेली कंपनियां भारतीय वन्यजीव संस्थान एवं एनजीटी के नियमों का पालन नहीं कर रही हैं और हेलीकॉप्टर निर्धारित ऊंचाई से कम में उड़ान भर रहे हैं जो कि पर्यावरण एवं वन्य जीवो के लिए हानिकारक है।

रुद्रप्रयाग से श्रमिक मंत्र संवाददाता ललित पंडित की रिपोर्ट

 

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest Post

53 प्रत्याशियों की पहली सूची । अभी 17 प्रत्याशियों के किस्मत का फैसला होना अभी बाकी

53 प्रत्याशियों की पहली सूची । अभी 17 प्रत्याशियों के किस्मत का फैसला होना अभी बाकी श्रमिक मंत्र देहरादून । कांग्रेस ने उत्‍तराखंड में जारी...

एक एक कर बिखर रहा है भाजपा का कुनबा : जिसे संभालने में विफल दिख रहा है संगठन

एक एक कर बिखर रहा है भाजपा का कुनबा : जिसे संभालने में विफल दिख रहा है संगठन श्रमिक मंत्र सूत्र : काशीपुर। भारतीय जनता...

बीजेपी के पूर्व विधायक शक्ति लाल ने दिखाएं नियम व कानून के विरुद्ध अपनी शक्ति प्रदर्शन

बीजेपी के पूर्व विधायक शक्ति लाल ने दिखाए नियम व कानून के विरुद्ध अपनी शक्ति प्रदर्शन श्रमिक मंत्र सूत्र : उत्तराखंड के घनसाली विधानसभा क्षेत्र...

पूर्व कांग्रेस के महिला अध्यक्ष को भाजपा में शामिल होना  :  हो  रहा है महंगा साबित

पूर्व कांग्रेस के महिला अध्यक्ष को भाजपा मैं शामिल होना  :  हो  रहा है महंगा श्रमिक मंत्र सूत्र, नैनीताल : कांग्रेस का हाथ छोड़ बीजेपी...

बीजेपी के पूर्व महिला विधायक ने कहा- 2 करोड़ में बिका है विधानसभा की टिकट

बीजेपी के पूर्व महिला विधायक ने कहा- 2 करोड़ में बिका है विधानसभा की टिकट भाजपा से टिकट कटने पर मुन्नी देवी शाह हुई नाराज,...